छाछ पीने के लाभ व सावधानियॉ

छाछ को धरती पर अमृत के समान बताया गया है एवं ये एक बहुत ही दिव्य पेय पदार्थ है जो की भारतवर्ष में गर्मियों के दिनों में बहुत अधिक मात्रा में इसका सेवन किया जाता है I इसको कोई सीधे छाछ के रूप में पीता है तो कोई कुछ मिलाकर जैसे – राबड़ी के साथ , रायते के रूप में , मीठी छाछ , मसाला छाछ आदि I
छाछ में पर्याप्त मात्रा में खनिज , कैल्सियम , विटामिन्स आदि होते है जो की हमारे शरीर को जरुरी पोषक तत्व देने के साथ ही पेट को शीतलता प्रदान करती है जिससे शरीर निरोग रहता है ,एवं सेहत (Health) अच्छी रहती है I

दही को मथने के पश्चात छाछ बनती है एवं इसके मुख्यतया दो प्रकार है :-
1 . लस्सी :- लस्सी बनाने में दही को बिना पानी डाले मथा जाता है और मक्खन भी सामान्यत: नहीं निकाला जाता है, इस प्रकार लस्सी बनायीं जाती है I
इसको अनेक रूपों में तैयार किया जाता है जैसे – मीठा डालकर मीठी लस्सी , तो मसाला डालकर मसाला लस्सी तैयार की जाती है और इसका सेवन किया जाता है I
2 . मठ्ठा या छाछ :- इस विधि में दही की मात्रा के बराबर या थोड़ा कम रूप में पानी मिलाकर इसे मथा जाता है और बाद में मक्खन निकाल लिया जाता है, इसके बाद इसका सेवन किया जाता है I

छाछ पीने के लाभ :-
– छाछ का नियमित सेवन करने से पेट सम्बन्धी रोग नहीं होते है I
– छाछ पीने से पेट की जलन दूर होती है I
– छाछ पीने से कब्ज दूर होती है I
– छाछ के सेवन से हड्डियों से सम्बंधित रोग नहीं होते है I
– छाछ का उपयोग पेट के अल्सर दूर करने में भी किया जाता है I
– छाछ पीने से शरीर में डी-हाइड्रेशन अर्थात पानी की कमी की समस्या दूर होती है I
– छाछ के नियमित सेवन से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है I
– छाछ के सेवन से त्वचा सम्बन्धी रोग नहीं होते है I
– छाछ पीने से निम्न रक्तचाप के रोगियों को भी लाभ मिलता है I
– छाछ का सेवन शारीरिक व मानसिक ऊर्जा प्रदान करता है I
– छाछ के सेवन से वजन घटाया जा सकता है I

छाछ का सेवन कब नहीं करे :-
– जब बुखार – जुकाम हो तब छाछ का सेवन नहीं करना चाहिए I
– छाछ का सेवन रात्रि में नहीं करना चाहिए I
– खांसी में छाछ नहीं पीनी चाहिए I
– ज्यादा समय से तैयार छाछ का सेवन नहीं करना चाहिए अर्थात सदैव ताज़ा बनी छाछ ही पीनी चाहिए I
– हृदय रोगी को छाछ में से मक्खन निकाल कर ही पीना चाहिए I
– वर्षाऋतु समय में छाछ के अधिक सेवन से बचना चाहिए क्योकि इस समय ज्यादा छाछ का सेवन पित्त आदि रोगों को बढ़ावा दे सकता है I
– खट्टी छाछ नहीं पीनी चाहिए I

इस प्रकार यदि नियमित रूप से ताज़ा छाछ का सेवन किया जाये तो शरीर निरोग रहता है I







Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *